ट्राइग्लिसराइड की आयुर्वेदिक दवा पतंजलि। कोलेस्ट्रॉल की आयुर्वेदिक दवा पतंजलि


ट्राइग्लिसराइड की आयुर्वेदिक दवा पतंजलि: ट्राइग्लिसराइड रक्त में पाया जाने वाला फेट है यह फैट का निर्माण हमारे आहार में मौजूद कैलोरी से होता है। ट्राइग्लिसराइड संतुलित रहने पर शरीर सही ढंग से कार्य करता है तथा इसके बढ़ने पर हृदय संबंधित गंभीर समस्यायों का खतरा रहता है जिसमे हार्ट अटैक, स्टोर्क और हृदय संबंधित बीमारियां शामिल है।

ट्राइग्लिसराइड को संतुलित रखने के लिए विभिन्न प्रकार की आयुर्वेदिक दवाएं उपलब्ध तथा इस लेख में हम ट्राइग्लिसराइड के लिए आने वाली पतंजलि दवाओ के बारे में जानेंगे।

ट्राइग्लिसराइड की आयुर्वेदिक दवा पतंजलि।

ट्राइग्लिसराइड्स के लिए कौन सी पतंजलि दवा सबसे अच्छी है? पतंजलि आयुर्वेद भारत की एक जानी मानी आर्युवेदिक दवाई कंपनी है तथा ट्राइग्लिसराइड्स के लिए विभिन्न प्रकार की दवाएं पतंजलि आयुर्वेद बनाती है आइए इन दवाओ के बारे मैं विस्तार से जानते है।

1. पतंजलि अर्जुनरिष्ट

हृदय संबंधित रोगों के उपचार के लिए अर्जुन एक बहुत ही फायदेमंद औषधि मानी जाती है इसमें मौजूद हाइपोलिपिडेमिक गुण ट्राइग्लिसराइड को संतुलित रखने मैं फायदेमंद होती है तथा कोलेस्ट्रॉल को भी नियंत्रित रखने मैं मदद करती है और हृदय संबंधित अन्य बीमारियों के उपचार मैं भी कारगर होती है।

2.पतंजलि हृदयामृत वटी

पतंजलि हृदय अमृत वटी अर्जुन ,पुनर्नवा ,प्रवाल पिष्टी समेत विभिन्न प्रकार की औषधियां से तैयार की गई एक बहुत ही फायदेमंद आयुर्वेदिक दवाई है जो ट्राइग्लिसराइड को संतुलित रखने और इससे होने वाले खतरों से बचने के लिए उपयोग की जाती है। यह कोलेस्ट्रॉल को कम करती है और हृदय संबंधित खतरों को कम करने में सहायता करती है।

यह भी पढ़े

3. पतंजली अर्जुन घन वटी

पतंजलि अर्जुन घनवटी पतंजलि आयुर्वेद का एक नया उत्पाद है जिसे अर्जुन की चाल से तैयार किया गया है। यह हृदय संबंधित रोगों के लिए फायदेमंद होता है यह कोलेस्ट्रॉल को कम करती है और बढ़े हुए ट्राइग्लिसराइड को संतुलित करने का कार्य करती है। यह हृदय की मांसपेशियों को मजबूत बनाती है और बड़े हुए हृदय के गति को नियंत्रित करने में सहयोग करती है।

4. पतंजलि दिव्य लिपिडोम। Lipidom Patanjali Benefits in Hindi

पतंजलि आयुर्वेद की दिव्य लिपिडोम टेबलेट पतंजलि रिसर्च सेंटर द्वारा टेस्टेड और वेरीफाइड दवाई है जिसका उपयोग ट्राइग्लिसराइड और कोलेस्ट्रोल के स्तर को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है यह डिस्लिपिडेमिया को नियंत्रित करने और वसा के मेटाबॉलिज्म को बढ़ावा देने मैं मदद करता है। 

पतंजलि लिपिडोम टैबलेट में अर्जुन , लौकी, लहसुन ,दालचीनी और गूगल जैसे सक्रीय औषधीय का उपयोग किया गया है।

5. पतंजलि दिव्य अर्जुन क्वाथ।

ट्राइग्लिसराइड को नियंत्रित करने और बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए अर्जुन एक बहुत ही फायदेमंद औषधि मानी जाती तथा अर्जुन क्वाथ पतंजलि आयुर्वेद का एक बहुत ही सस्ती और प्रभावशाली आयुर्वेदिक दवाई है।

यह एक प्राकृतिक और रॉ अर्जुन की छाल है जिसका उपयोग काढ़ा बनाकर किया जाता है।

यह भी पढ़े


FAQ: ट्राइग्लिसराइड की आयुर्वेदिक दवा पतंजलि

Q: कौन सी दवा सबसे ज्यादा ट्राइग्लिसराइड्स कम करती है?

Ans: आयुर्वेद चिकित्सा मैं अर्जुन, पुनर्नवा लौकी , लहसून और दालचीनी से बनी दवाइयां ट्राइग्लिसराइड्स को कम करने मैं फायदेमंद होती है।

Q: ट्राइग्लिसराइड्स के लिए कौन सी पतंजलि दवा सबसे अच्छी है?

Ans: ट्राइग्लिसराइड्स के लिए पतंजलि की लिपिडोम, अर्जुनरिष्ट, अर्जुन घन वटी, हृदयमृत वटी और अर्जुन क्वाथ दवा सबसे अच्छी है।

Q: कौन सी जड़ी-बूटियां ट्राइग्लिसराइड्स को कम करती हैं?

Ans: अर्जुन, पुनर्नवा, गुग्गुल ,पुष्करमूल, शिलाजीत , प्रवाल पिष्टी, दालचीनी, ट्राइग्लिसराइड्स को कम करने मैं फायदेमंद होती हैं?

Bablu Bhengra
Spread the love

Leave a Comment