पतंजलि कमर दर्द की 9 असरदार दवा। Patanjali medicine for back pain in hindi

पतंजलि कमर दर्द की दवा। पुरुषों में कमर दर्द की दवा। कमर दर्द की आयुर्वेदिक दवा। कमर दर्द की होम्योपैथिक दवा। बैद्यनाथ कमर दर्द की दवा। Patanjali medicine for back pain in hindi


कमर दर्द एक बहुत ही आम समस्या है जो कि आजकल अधिकतर लोगों में देखने को मिलती है पुरुष हो या महिला हर कोई कमर दर्द की समस्या से पीड़ित हो सकता है कमर दर्द के उपचार के लिए अनेकों प्रकार की दवाई बाजार में उपलब्ध है।

तथा इस लेख में हम पतंजलि कमर दर्द की दवा के बारे में जानेंगे साथ ही साथ इन दवाओं का उपयोग कैसे किया जाता है और इसके इस्तेमाल के दौरान हमें कौन-कौन सी सावधानियां रखनी चाहिए इसके बारे में भी हम इस लेख में जानेंगे।


पतंजलि कमर दर्द की दवा। Patanjali medicine for back pain in hindi

पतंजलि आयुर्वेद भारत की एक जानी मानी आयुर्वेदिक ओषधि कंपनी है जो की FMCG प्रोडक्ट के अलावा दवाइयां भी बनाती है तथा कमर दर्द के उपचार के लिए पतंजलि की कई प्रकार की दवाएं उपलब्ध है तो आइए इन दवाओ के बारे मैं जानते है।

1.पतंजलि पीडांतक वटी

पीडांतक वटी पतंजलि आयुर्वेद की एक बहुत ही फायदेमंद दवाई है जो कमर दर्द से संबंधित लक्षणों को कम करने में उपयोग की जाती है इसमें अश्वगंधा, नागर मोथा, निर्गुंडी, शतावर , हथजोड़ और मेथी जैसी औषधीय का उपयोग किया गया है जो कि कमर दर्द के उपचार के लिए बहुत ही उपयोगी मानी जाती है। इसके अलावा यह मांसपेशियों में होने वाले दर्द और साइटिका जैसे रोगोके उपचार में भी उपयोगी होती है।

सेवन विधि: दो-दो गोली सुबह शाम भोजन के बाद सामान्य जल के साथ सेवन करें।

2. पतंजलि पीडानिल तेल

पतंजलि पीड़ा नील तेल कमर दर्द के लिए बहुत ही अच्छा तेल माना जाता है इसमें अजवाइन, धतूरा, मधु यष्ठी, पिपली, हल्दी,तेज पत्ता, सौंठ , चित्रक, जटामांसी, मंजिस्था, मालकांगनी और निर्गुंडी समेत कई और औषधि सम्मिलित की गई है। जो की कमर दर्द मांसपेशियों के दर्द और वात रोगों के लिए भी उपयोगी होता है।

उपयोग विधि: पतंजलि पीड़ा नील तेल से दिन में 2 से 3 बार हल्के हाथों से कमर की मालिश करें।

ALSO READ


3. पतंजलि दिव्य पीडांतक क्वाथ

पतंजलि दिव्य पीडांतक क्वाथ कमर दर्द के लिए बहुत अच्छी दवाई हो सकती है इसका उपयोग मुख्य रूप से जोड़ों के दर्द,साइटिका ,गठिया ,कमर दर्द जैसे रोगों के उपचार के लिए किया जाता है पीडांतक क्वाथ में पीपली मूल, निर्गुंडी, अश्वगंधा, रासना , एरंड मूल, सौंठ, अजवाइन नागकेसर और पारिजात समेत कई और औषधीय सम्मिलित की गई हैं।

सेवन विधि: एक छोटी चम्मच क्वाथ (5 ग्राम) को 400 मिलीलीटर पानी मैं डालकरधीमी आंच में पकाएं 100 मिलीलीटर शेष बचना पर इसे ठंडा करके छान कर खाली पेट सेवन करें। सुबह और शाम 

4. पतंजलि दिव्य निर्गुंडी क्वाथ

निर्गुंडी एक बहुत ही फायदेमंद औषधि है जिसका उपयोग जोड़ों के दर्द कमर दर्द और वात संबंधित रोगों के लिए किया जाता रहा है तथा पतंजलि दिव्य निर्गुंडी क्वाथ कमर दर्द में बेहद फायदेमंद हो सकता है।

सेवन विधि: एक छोटी चम्मच क्वाथ (5 ग्राम) को 400 मिलीलीटर पानी मैं डालकरधीमी आंच में पकाएं 100 मिलीलीटर शेष बचना पर इसे ठंडा करके छान कर खाली पेट सेवन करें। सुबह और शाम 

ALSO READ


5. पतंजलि दिव्य योगराज गुग्गुल।

पतंजलि दिव्या योगराज गूगल कमर दर्द गठिया ,साइटिका ,जोड़ों के दर्द जैसे विकारों में बहुत लाभप्रद मानी जाती है इसमें पीपल मूल जरा अज़मुड़ी गोखरू धनिया, राशना, हरण, नागर मोथा , आमला समेत कई और औषधीय सम्मिलित की गई है।

सेवन विधि: दो-दो गोली सुबह शाम भोजन के बाद सामान्य जल के साथ सेवन करें।

6. पतंजलि चंद्रप्रभा वटी

पतंजलि चंद्रप्रभा वटी एक बहु उपयोगी दवाई है जिसका उपयोग जोड़ों के दर्द ,गठिया ,सर्वाइकल ,सायटिका जैसे रोगो के लिए किया जाता है इसके अतिरिक्त चंद्रप्रभा वटी मूत्र रोगों ,पेट संबंधित रोगों एवं यौन संबंधित रोगों के उपचार के लिए भी उपयोगी होता है।

सेवन विधि: दो-दो गोली सुबह शाम भोजन के बाद सामान्य जल के साथ सेवन करें।

ALSO READ


7. पतंजलि दिव्य वातारि चूर्ण

पतंजलि दिव्या वाटरी चूर्ण सोंठ ,अश्वगंधा ,मेथी ,कुटकी और सुरजान मैथी औषधीय से तैयार किया गया है यह चूर्ण सभी प्रकार के वात रोग, आमवात रोग,साइटिका ,अर्थराइटिस जोड़ों के दर्द कमर दर्द में फायदेमंद होता है।

8.पतंजलि पीडांतक ऑइंटमेंट (क्रीम)

पतंजलि पीड़ांतक ऑइंटमेंट अथवा क्रीम कमर दर्द के लिए एक बेहद फायदेमंद दवाई है जिसमें पीड़ांतक तेल, लहसुन का तेल, मालकांगनी तेल,गूगल अर्क ,रसना और निर्गुंडी जैसे औषधीय का प्रयोग किया गया है जो की कमर दर्द से राहत दिलाने में बेहद फायदेमंद होते हैं।

उपयोग विधि: पतंजलि पीड़ांतक ऑइंटमेंट को हल्के हाथों से कमर में मालिश करें।

9.पतंजलि दिव्य पीड़ानिल गोल्ड 

पतंजलि दिव्या पीड़ा नील कोल्ड कमर दर्द के लिए एक बहुत अच्छी औषधि है यह कमर दर्द के अलावा जोड़ों में दर्द ,घुटनों में दर्द ,साइटिका ,अर्थराइटिस व सीवियर पेन जैसे गंभीर स्थितियों के इलाज के लिए भी उपयोग किया जाता है इसमें शुद्ध गूगल, मुक्तासुक्ति भस्म, आमवतारी रस, वृहतवात चिंतामणि रस जैसी औषधीय को सम्मिलित किया गया है।

सेवन विधि: दो-दो गोली सुबह शाम भोजन के पहले खाली सामान्य जल के साथ सेवन करें।

ALSO READ


पतंजलि कमर दर्द की दवा के नुक्सान, दुस्प्रभाव, साईड इफेक्ट। Patanjali medicine for back pain side effects in hindi

कमर दर्द के लिए उपयोग की जाने वाली पतंजलि दवाई पूर्ण रूप से आयुर्वेदिक है तथा यही कारण है कि इसके दुष्प्रभावों के बारे में चिकित्सा जगत में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है अथवा अज्ञात है।

लेकिन कुछ स्थितियों में इन दावों के साइड इफेक्ट्स देखने को मिल सकते हैं तो आईए जानते हैं कि कमर दर्द के लिए उपयोग की जाने वाली पतंजलि दावों के क्या साइड इफेक्ट्स होते हैं।

  • निर्धारित मात्रा से अधिक और गलत तरीके से इन दवाओं का सेवन किए जाने पर इसके दुष्प्रभाव शरीर पर हो सकते हैं।
  • शराब पीने के बाद यदि कोई व्यक्ति इन दवाओं का उपयोग करता है तो ऐसी स्थिति में भी इसके दुष्प्रभाव शरीर पर हो सकते हैं।
  • ऐसे व्यक्ति जो कि किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित है और वह बिना अपने चिकित्सक की सलाह के इन दवाओं का सेवन करता है तो ऐसी स्थिति में भी इनके दुष्प्रभाव हो सकते हैं।
  • कमर दर्द के लिए उपयोग की जाने वाली पतंजलि दवाओं में उपस्थित किसी घटक सामग्री से एलर्जी होने के बावजूद भी यदि इसका सेवन किया जाता है तो ऐसी स्थिति में भी इसके दुष्प्रभाव हो सकते हैं।
  • एक्सपायर हो चुके दवाइयां का सेवन किए जाने पर भी इसके दुष्प्रभाव शरीर पर हो सकते हैं इस्तेमाल के पहले दवाइयां पर उनकी एक्सपायरी डेट अवश्य चेक करें।

कमर दर्द के लिए पतंजलि दवाइयां का सेवन करते समय किसी भी प्रकार के दुष्प्रभावों का अनुभव होने पर तुरंत चिकित्सक से संपर्क करें।

कमर दर्द के लिए उपयोग की जाने वाली पतंजलि दवाइयां के दुष्प्रभावों से जुड़े यदि आपके कुछ व्यक्तिगत अनुभव या जानकारी है तो कमेंट के माध्यम से हमारे साथ जरूर शेयर करें यह हमारे और हमारे पाठकों के लिए एक महत्वपूर्ण जानकारी होगी।

ALSO READ


पतंजलि कमर दर्द की दवा से सम्बन्धित सावधानी। Patanjali medicine for back pain warnings & precautions in hindi

कमर दर्द के लिए पतंजलि दवाओं का उपयोग करते समय कुछ सावधानियां है जिन्हें ध्यान में रखना बेहद जरूरी है इन महत्वपूर्ण बातों को यदि आप ध्यान में रखते हैं तो अनजाने में होने वाली हानियों से बच सकते हैं।

  • गर्भवती महिलाओं को इन दवाओंका सेवन चिकित्सक की सलाह के बाद ही करना चाहिए यदि वह बिना डॉक्टर की सलाह के इन दावों का सेवन करती हैं तो मां और बच्चे के लिए यह नुकसानदायक हो सकता है।
  • ऐसे लोग जो कि किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित हैं और वर्तमान समय में उपचार ले रहे हैं उन्हें इन दवाओं का सेवन अपने चिकित्सक की सलाह के बाद ही करना चाहिए।
  • हाई ब्लड प्रेशर और डायबिटीज के मरीजों को इन दवाओं का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह अवश्य लेनी चाहिए।
  • ऐसी महिलाएं जो की हाल ही में मां बनी है और अपने शिशु को स्तनपान कराती है उन्हें इन दवाओं का सेवन डॉक्टर की सलाह के बाद ही करना चाहिए।
  • कमर दर्द के लिए उपयोग की जाने वाली पतंजलि दवाओं में उपस्थित किसी भी घटक सामग्री से एलर्जी अथवा किसी प्रकार की समस्या होने पर इन दवाओं का सेवन न करें।
  • अन्य किसी भी दवाई अथवा सप्लीमेंट्स के साथ इन दवाइयां का उपयोग करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।
  • कमर दर्द के लिए उपयोग की जाने वाली पतंजलि दवाइयां का सेवन पैक पर दिए गए निर्देश अथवा चिकित्सक द्वारा बताए गए तरीकों से ही सेवन करें।
  • कमर दर्द के लिए पतंजलि दवाओं का उपयोग करने से पहले पैक पर दिए गए सभी महत्वपूर्ण निर्देशों को ध्यानपूर्वक पढ़ें।

ALSO READ


FAQ: पतंजलि कमर दर्द की दवा।

Q: कमर दर्द के लिए सबसे अच्छी टेबलेट कौन सी है?

Ans: कमर दर्द के लिए सबसे अच्छी टैबलेट में एलोपैथिक में ज़ेरोडोल एमआर टैबलेट आर्युवेद मैं पतंजलि पीड़ानील टैबलेट, रासनासप्तक काढ़ा।

Q: कमर दर्द से हमेशा के लिए छुटकारा कैसे पाएं?

Ans: कमर दर्द से हमेशा के लिए छुटकारा पाने के लिए अच्छा भोजन ले कैल्शियम आयरन वाली चीज खाएं अधिक लंबे समय तक एक स्थान पर ना बैठे हल्के-फुल्के एक्सरसाइज और योग करें। नशीले पदार्थ जैसे कि गुटखा ,सिगरेट ,तंबाकू, शराब का सेवन न करें।

Q: पीठ के निचले हिस्से में दर्द क्यों होता है?

Ans: भारी चीजों को गलत तरीके से उठाए जाने पर मांसपेशियों में खिंचाव होता है और मांसपेशियां क्षतिग्रस्त हो सकती है जिसके कारण पीठ के निचले हिस्से में दर्द हो सकता है। इसके अलावा  स्पाइनल स्टेनोसिस,रीढ़ की हड्डी में संक्रमण या चोट के कारण भी पीठ के निचले हिस्से में दर्द हो सकता है।

Q: कमर और पीठ में दर्द क्यों होता है?

Ans: कमर और पेट में दर्द किसी गंभीर बीमारी के कारण या रीड की हड्डी मैं संक्रमण या चोट के कारण से हो सकता है।

Q: कमर दर्द से राहत पाने का सबसे तेज़ तरीका क्या है?

Ans: कमर दर्द से राहत पाने का सबसे तेज़ तरीका है एक अच्छी दिन चर्या का पालन करना स्वस्थ्य आहार लेना जरूरी एक्सरसाइज और योग करना।

Bablu Bhengra
Spread the love

Leave a Comment