10 आयुर्वैदिक हर्ब्स जो कमज़ोर हड्डियों को स्वस्थ्य बनाए । सस्ते और आसानी से मिलने वाले 

Best ayurvedic herbs for joints and bones: आयुर्वेद चिकित्सा भारत की बहुत पुरानी और कारगर चिकित्सा पद्धति है जिसमें विभिन्न प्रकार के रोगों के उपचार के लिए औषधियां उपलब्ध हैं। यह औषधि हमें बड़े आसानी के साथ अपने घर के रसोई आसपास और बाजारों में मिल जाती है।

तथा हड्डियों को मजबूत करने के लिए भी विभिन्न प्रकार की औषधियां आयुर्वेद में उपलब्ध है तथा इन्हीं आयुर्वेदिक औषधियां के बारे में हम इस लेख में चर्चा करने वाले हैं।

30 से 35 वर्ष की आयु के बाद सामान्य तौर पर हमारी हड्डियां कमजोर होने लगती है तथा जिसकी रोकथाम के लिए हमें इन आयुर्वेदिक औषधियां का उपयोग कर सकते हैं।

हड्डियों को मजबूत करने के लिए आयुर्वेदिक हर्ब्स।

1. अश्वगंधा (Ashwagandha): अश्वगंधा आयुर्वेद चिकित्सा में एक बहुत ही कारगर और फायदेमंद औषधि है जिसका हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है यह हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करता है। इसके अलावा यह है शारीरिक दुर्बलता और कमजोरी को दूर करने में भी फायदेमंद होता है।

2. हड्डीओं के लिए सहजन (Sahajan): सहजन जिसे शीघ्र, मोरिंगा और मुनगा भी कहा जाता है यह कैल्शियम और विटामिन डी से भरपूर होता है और इसकी आपूर्ति को पूरा करता है।

3. गुग्गुल (Guggul): गूगल का उपयोग विभिन्न प्रकार की दर्द नाशक औषधि बनाने में किया जाता है क्योंकि यह जोड़ों की सूजन को कम करने और हड्डियों को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करता है।

4. हल्दी (Haldi): हल्दी का उपयोग विभिन्न प्रकार के घरेलू नुस्खे और प्राकृतिक औषधियां में किया जाता है इसमें मौजूद एंटी-इन्फ्लैमेटरी गुणों के कारण हड्डियों के लिए उपयुक्त और फायदेमंद होता है। यह हड्डियों के दर्द और सूजन को कम करने मैं सहयोग करता है।

5. अरंडी का तेल (Castor Oil): अरंडी का तेल एक बहु उपयोगी तेल है यह त्वचा से लेकर हड्डियों के लिए बहुत ही फायदेमंद माना जाता है यह जोड़ों को दर्द से राहत पहुंचाने में मदद करता है। इसके अलावा अरंडी का तेल कब्जियत जैसी समस्याओं में भी फायदेमंद होता है।

6. शतावरी (Shatavari): हड्डियों को मजबूत करने की बात हो रही हो और शतावरी का नाम ना आए ऐसा नहीं हो सकता शतावरी आयुर्वेद जगत में सतावरी एक जानी-मानी और बहुत ही फायदेमंद औषधि है यह हड्डियों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने और इसे मजबूत करने में फायदेमंद होती है यह हड्डियों की सुरक्षा और मजबूती के लिए उपयुक्त है।

7. गिलोय (Giloy): गिलोय एक बहु उपयोगी औषधि है जो जोड़ों की सूजन को कम करने में मदद कर सकता है। इसके अलावा गिलोय का उपयोग सर्दी जुकाम बुखार और प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने के लिए किया जाता है

8. अनन्तमूल (Anantmool): अनंत मूल में सूजन विरोधी और रोगाणु रोधी गुण होते हैं जो हड्डियों में होने वाले संक्रमण और सूजन को रोकने मदद करते हैं यह हड्डियों को सही से सपोर्ट करने में मदद कर सकता है।

9. अजवाइन (Ajwain): अजवाइन का उपयोग हर भारतीय घर में एक मसाले के तौर पर किया जाता है तथा यह जोड़ों के दर्द को कम करने और हड्डियों को सुधारने में मदद कर सकता है।

10. गोखरू (Gokhru): गोखरू का उपयोग आयुर्वेद चिकित्सा में विभिन्न प्रकार के दर्द नाशक दवाइयां में किया जाता है यह जोड़ों के दर्द, कमर दर्द और सूजन को कम करने और हड्डियों की मजबूती और सुरक्षा के लिए उपयुक्त है। इसके अलावा गोखरू का उपयोग मूत्र संबंधित रोगों के उपचार में भी किया जाता है।

Bablu Bhengra
Spread the love

Leave a Comment