अर्शकल्प वटी के फायदे और नुकसान। Patanjali Arshkalp vati benefits in Hindi

अर्शकल्प कैप्सूल के फायदे। अर्शकल्प वटी लेने का तरीका। पतंजलि अर्शकल्प वटी प्राइस। अर्शकल्प वटी के नुकसान। अर्शकल्प वटी का सेवन कैसे करें।अर्शकल्प कैप्सूल price।पतंजलि दिव्य अर्शकल्प वटी के फायदे। अर्शकल्प वटी के घटक। अर्शकल्प कैसे खाये। अर्शकल्प वटी की तासीर। अर्शकल्प बवासीर की दवा


बवासीर जिसे पाइल्स कहा जाता है भारत मैं पाइल्स की मरीजों को संख्या मैं काफी बढ़ोतरी होती जा रही है बवासीर का कारण खराब खान पान और जीवनशैली है बवासीर के उपचार के लिए कई प्रकार की दवाएं बाजार मैं मोजूद है जिन्हे आप चिकित्सक की सलाह से ले सकते हैं।

तथा इस लेख मैं हम पतंजलि दिव्य अर्शकल्प वटी के फायदे और नुकसान के बारे मैं जानेंगे तथा अर्शकल्प वटी का सेवन कैसे करें एवं इसके इस्तेमाल के दौरान हमे कौन कौन सी सावधानियां रखनी चाहिए इसके बारे मैं भी हम इस लेख मैं जानेंगे।


अर्शकल्प क्या है। What is Patanjali Divya Arshkalp Vati in Hindi? 

पतंजलि दिव्य अर्शकाल वटी पतंजलि आयुर्वेद द्वारा निर्मित एक आयुर्वेदिक औषधि है जिसका उपयोग पाइल्स और पाइल्स से जुड़े लक्षणों के उपचार के लिए किया जाता है इसके अलावा यह है कब से ऐसी समस्याओं के लिए भी उपयोगी होता है।

ALSO READ


पतंजलि अर्शकल्प वटी के फायदे। Patanjali Arshkalp vati benefits in Hindi 

दिव्य अर्शकल्प वटी के फायदे:

जैसा की पतंजलि अर्शकल्प वटी के नाम से ही यह पता चलता है कि यह अर्श यानी कि पाइल्स के उपचार के लिए उपयोग की जाती है। बवासीर के अलावा अर्शकल्प वटी पेट से संबंधित दिक्कत है जैसे की कब्ज पेट दर्द, अपच जैसी समस्याओं में भी लाभकारी होती है तो आइए इसके फायदे के बारे में विस्तार से जानते हैं।

1.  गैस और अपच के लिए अर्शकल्प वटी पतंजलि के फायदे। 

लंबे समय तक गैस और अपच की समस्या जैसी गंभीर दिक्कतें के कारण बवासीर हो सकती है तथा पतंजलि अर्शकल्प वटी पेट में बनने वाली गैस ,पेट फूलना और अपच की समस्याओं से राहत दिलाने में काफी मददगार हो सकती है इसके नियमित रूप से इस्तेमाल किए जाने पर गैस और अपच जैसी समस्याओं से राहत पाया जा सकता है।

2. फिस्टुला के लिए पतंजलि अर्शकल्प वटी के फायदे। 

फिस्टुला जिसे भगंदर भी कहा जाता है बवासीर में होने वाली एक पीड़ा दायक बीमारी है तथा पतंजलि अर्शकल्प वटी भगंदर के उपचार के लिए भी उपयोगी और फायदेमंद दवाई यह फिस्टुला के साथ होने वाली परेशानियां जलन और दर्द को कम करने मैं मदद करता है।

ALSO READ

3. मस्से वाली बवासीर के लिए अर्शकल्प वटी। 

बवासीर रोग में मस्से वाली बवासीर एक बेहद दर्दनाक स्थिति हो जाती है जिसमे गुदा के पास मस्से हो जाते है जो की बेहद दर्द,जलन और खुजली पैदा करते है तथा इसके उपचार और लक्षणों को कम करने के लिए पतंजलि अर्शकल्प वटी एक बेहद फायदेमंद दवाई है।

4.अर्शकल्प कैप्सूल बवासीर के लिए। Patanjali Arshkalp Vati for Piles

खराब पाचन और असंतुलित जीवन शैली बवासीर होने का एक मुख्य कारण हो सकते हैं तथा बवासीर के उपचार के लिए पतंजलि आयुर्वेद की अर्शकल्प वटी एक बेहद फायदेमंद और कारगर दवाई है इसके साथ कुछ और भी अन्य दवाएं हैं जो कि आप आयुर्वेदिक चिकित्सा की सलाह से ले सकते हैं पतंजलि अर्शकल्प वटी बवासीर के उपचार और इसके लक्षणों को नियंत्रित करने में बेहद फायदेमंद औषधि साबित हो सकती है।

5. कब्ज के लिए दिव्य अर्शकल्प वटी के फायदे। 

खराब पाचन और कब्ज बवासीर होने के मुख्य कारणों में से एक है तथा कब्ज के उपचार के लिए भी पतंजलि की अर्शकल्प वटी एक बेहद फायदेमंद है। इसमें मौजूद सक्रिय औषधियां कब्ज के उपचार में बेहद लाभ पहुंचती है तथा अपच, पेट की खराबी और कब जैसी समस्या को दूर करती हैं।

6. पाचन तंत्र के लिए अर्शकल्प वटी। 

पतंजलि दिव्य अर्शकल्प वटी कई प्रकार की औषधीय से मिल कर तैयार दवाई है जो कि हमारे संपूर्ण पाचन तंत्र के लिए फायदेमंद होती है तथा इसका उपयोग पेट से संबंधित अन्य रोग और पाचन विकारों के उपचार के लिए किया जाता है।

ALSO READ


दिव्य अर्शकल्प वटी के नुकसान। Patanjali Arshkalp Vati Side Effects in Hindi

अर्शकल्प वटी के नुकसान क्या है? पतंजलि दिव्य अर्शकाल वटी एक आयुर्वेदिक औषधि है तथा यही कारण है कि इसके दुष्प्रभाव के बारे में चिकित्सा जगत में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है अथवा अज्ञात है।

कुछ स्थितियों में इसके दुष्प्रभाव में देखने को मिल सकते हैं तो आईए जानते हैं कि अर्शकल्प वटी के क्या साइड इफेक्ट्स होते हैं।

  • निर्धारित मात्रा से अधिक और गलत तरीके से पतंजलि दिव्य अर्शकल्प वटी का सेवन किए जाने पर इसके दुष्प्रभाव हमें देखने को मिल सकते हैं।
  • शराब पीने के बाद यदि कोई व्यक्ति अर्शकल्प वटी का सेवन करता है तो ऐसी स्थिति में भी इसके दुष्प्रभाव शरीर पर हो सकते हैं। क्योंकि यह अल्कोहल के साथ मिश्रित होकर शरीर पर विपरीत प्रभाव डाल सकता है।
  • ऐसे व्यक्ति जो की किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित है और वह बिना अपने चिकित्सक की सलाह के इसका सेवन करते हैं तो ऐसी स्थिति में भी इसके दुष्प्रभाव हो सकते हैं।
  • पतंजलि दिव्य अर्शकल्प वटी में उपस्थित किसी घटक सामग्री से एलर्जी होने के बावजूद भी यदि इसका उपयोग किया जाता है तो ऐसी स्थिति में भी इसके दुष्प्रभाव शरीर पर हो सकते हैं।
  • एक्सपायर हो चुके अर्शकल्प वटी का सेवन किए जाने पर भी इसके दुष्प्रभाव शरीर पर हो सकते हैं।

अर्शकल्प वटी के इस्तेमाल के दौरान यदि किसी भी प्रकार के दुष्प्रभाव का अनुभव करते हैं तो तुरंत चिकित्सक से संपर्क करें।

पतंजलि दिव्य अर्शकल्प वटी के दुष्प्रभाव से जुड़े यदि आपके कुछ व्यक्तिगत अनुभव या जानकारी है तो कमेंट के माध्यम से हमारे साथ जरूर शेयर करें यह हमारे और हमारे पाठको के लिए एक महत्वपूर्ण जानकारी होगी।

ALSO READ


दिव्य अर्शकल्प वटी से सम्बन्धित सावधानी। Patanjali Arshkalp Vati related precautions & warnings in Hindi

पतंजलि दिव्य अर्शकल्प वटी का सेवन करने से पहले कुछ सावधानियां है जिन्हे ध्यान मैं रखना बेहद जरूरी है इन महत्वपूर्ण बातों को यदि आप ध्यान में रखते हैं तो अनजाने मैं होने वाली कई प्रकार की हानियों से बच सकते हैं।

  • गर्भवती महिलाओं को अर्शकल्प वटी का सेवन चिकित्सक की सलाह के बाद ही करना चाहिए।
  • ऐसे लोग जो वर्तमान समय मैं किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित है और उपचार ले रहे है उन्हे इसका सेवन चिकित्सक की सलाह के बाद ही करना चाहिए।
  • हाई ब्लड प्रेशर और डायबिटीज के मरीजों को इसका सेवन अपने चिकित्सक की सलाह के बाद ही करना चाहिए।
  • ऐसी महिलाएं जो की हाल ही मे मां बनी है और अपने शिशु को स्तनपान कराती है उन्हें इसका सेवन अपने चिकित्सक की सलाह के बाद ही करना चाहिए।
  • पतंजलि अर्शकल्प मैं मोजूद किसी घटक सामग्री से एलर्जी अथवा किसी प्रकार की समस्या होने पर इसका उपयोग ना करे।
  • अन्य किसी भी अन्य दवाई अथवा सप्लीमेंट्स के साथ इसका उपयोग करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।
  • पतंजलि अर्शकल्प वटी का सेवन पैक पर दिए निर्देश अथवा चिकित्सक द्वारा बताए गए तरीकों से ही सेवन करें।
  • अर्शकल्प वटी का उपयोग करने से पहले पैक पर दिए गए सभी महत्वपूर्ण निर्देशों को ध्यानपूर्वक पढ़ें।
  • अर्शकल्प वटी का सेवन करने से पहले अपनी वर्तमान स्वास्थ्य स्थिति पर अच्छे से समीक्षा करें।

ALSO READ


अर्शकल्प कैप्सूल कैसे इस्तेमाल करें। How to use Patanjali Arshkalp Vati in Hindi 

पतंजलि अर्शकल्प वटी कैसे खाये? अर्शकल्प वटी खाने का तरीका क्या है। किसी दवाई को लेने का एक सही समय और तरीका होता है तथा तभी यह आपके शरीर को पूर्ण रूप से फायदा पहुंचती है।

ठीक उसी प्रकार से दिव्य अर्शकल्प वटी लेने का तरीका होता है तो आईए जानते हैं कि अर्शकल्प वटी का सेवन कैसे किया जाता है।

दिव्य अर्शकल्प वटी कैसे खाएं: अर्शकल्प वटी का लाभ लेने के लिए 2–2 गोली सुबह शाम भोजन के पहले खाली पेट छाछ या ताजे पानी से सेवन करे।

ALSO READ


अर्शकल्प वटी के घटक सामग्री। Patanjali Arshkalp Vati ingredients in Hindi 

  • शुद्ध रसोत 
  • छोटी हरड़
  • बकायन
  • नेमोली
  • रीठा
  • कपूर
  • खूनखराबा
  • कहरवा
  • मकोय
  • नागदौन
  • एलुआ

ALSO READ


पतंजलि अर्शकल्प वटी प्राइस। अर्शकल्प वटी का मूल्य। Patanjali Arshkalp Vati price

अर्शकल्प कैप्सूल पतंजलि price क्या है? 40 टैबलेट वाले अर्शकल्प वटी पैक की कीमत 45/–RS है जिसे आप किसी भी पतंजलि स्टोर या फिर आयुर्वेद मेडिकल एवं ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट से भी खरीद सकते हैं।


FAQ:पतंजलि दिव्य अर्शकल्प वटी के फायदे। अर्शकल्प वटी पतंजलि के फायदे

Q: अर्शकल्प वटी क्या काम आती है?

Ans: अर्शकल्प वटी खूनी बवासीर यानी की पाइल्स के इलाज के लिए काम आती है।

Q: बवासीर के लिए सबसे अच्छी गोली कौन सी है?

Ans: बवासीर के लिए पतंजलि की अर्शकल्प वटी सबसे अच्छी गोली है। इसके आलावा कई और भी दवाइयां है जिन्हे आप डॉक्टर की सलाह से ले सकते है।

Q: मुझे अर्शकल्प कैप्सूल कब लेना चाहिए?

Ans: अर्शकल्प वटी सुबह शाम भोजन के पहले खाली पेट लेना चाहिए।

Q: क्या हम अर्शकल्प वटी रोज ले सकते हैं?

Ans: जी हा अर्शकल्प वटी रोज ले सकते हैं रोज लेने से बवासीर जल्दी ठीक होता है।

Q: अर्शकल्प वटी कितने दिन में असर करती है?

Ans: नियमित रूप से नियम अनुसार लिए जाने पर अर्शकल्प वटी 15 से 20 दिन में असर करती है। तथा इसके अलावा मरीज के स्थिति पर भी निर्भर करता है।

Q: अर्शकल्प कैप्सूल कैसे इस्तेमाल करें?

Ans: अर्शकल्प वटी का लाभ लेने के लिए सुबह शाम भोजन के पहले खाली पेट दो दो गोली अर्शकल्प कैप्सूल इस्तेमाल करें ।

Bablu Bhengra
Spread the love

Leave a Comment